JaunpurUttar Pradesh

जौनपुर : राजन तिवारी बने कांग्रेस विधि विभाग के जिलाध्यक्ष ।

0 0
Read Time:3 Minute, 3 Second

जौनपुर। जिले के युवा कांग्रेस नेता एवं दीवानी न्यायालय के अधिवक्ता राजन तिवारी को विधि विभाग उत्तर प्रदेश कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष गंगा सिंह ने विधि विभाग का जिलाध्यक्ष बनाया है। गौरतलब है कि राजन का परिवार चार पीढ़ियों से कांग्रेस पार्टी में अपना योगदान देता आ रहा है।

उनके परदादा पं. भगवती दीन तिवारी मशहूर स्वाधीनता संग्राम सेनानी एवं भूतपूर्व विधायक थे। वर्ष 1928 में जिला कांग्रेस कमेटी के कोषाध्यक्ष, 1931 में जिला मंत्री, 1939 में जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष, 1952 में गडवारा से विधायक और 1962 में रारी से विधायक निर्वाचित हुए।1594301392397375-0.png

राजन तिवारी की दादी स्व. गिरिजा देवी तिवारी एक जुझारू कांग्रेसी नेत्री रही। वे जिले में महिला कांग्रेस कमेटी की अध्यक्ष, जिला पंचायत सदस्य, उ.प्र. कांग्रेस कमेटी की 35 वर्षों तक लगातार सदस्य और जिला में इंदिरा कांग्रेस कमेटी की अध्यक्ष भी रही। राजन के पिता स्व. रत्नेश कुमार तिवारी अपने छात्र जीवन से ही राष्ट्रीय छात्र संगठन से जुड़ गए थे।

खबरों व विज्ञापन के लिए संपर्क करें :-7800292090

वे राष्ट्रीय छात्र संगठन के जिलाध्यक्ष, भारतीय युवा कांग्रेस के अध्यक्ष, शहर कांग्रेस कमेटी के महामंत्री, जिला कांग्रेस कमेटी के उपाध्यक्ष और केंद्रीय सहकारी उपभोक्ता भंडार के चेयरमैन भी रहे। वहीं राजन के फूफा स्व. श्रीपति मिश्रा उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री एवं उत्तर प्रदेश विधानसभा के स्पीकर भी रहे। बता दें कि राजन तिवारी ने अपनी स्कूली शिक्षा सेंट जॉन्स जौनपुर एवं व ला की पढ़ाई दिल्ली-एनसीआर से पूरी की। उन्होंने लॉ में स्नातकोत्तर भी किया है।

सन् 2010 में पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अरुण कुमार सिंह ‘मुन्ना’ द्वारा श्री तिवारी को कांग्रेस की प्राथमिकता सदस्य दिलाई गई। श्री तिवारी ने कहा कि पार्टी ने जो जिम्मेदारी उन्हें सौंपी है उसका वह निष्ठापूर्वक निर्वाह करेंगे। पार्टी को मजबूत करने का कार्य वह हमेशा करते रहेंगे। पार्टी के लिए संघर्ष करते रहेंगे।

 

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Related Articles

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button