JaunpurUttar Pradesh

#Jaunpur | दो दर्जन से अधिक मजदूर बंगलौर से पैदल चलकर आए मुंगराबादशाहपुर

0 0
Read Time:2 Minute, 43 Second

जौनपुर। बंगलौर से रुदौली जा रहे मजदूर बुधवार को मुंगराबादशाहपुर में रूके जहां देखा गया कि सभी लोग मजदूर थे जो भूख-प्यास से बेहाल थे। उन्होंने बताया कि वे सभी बंगलौर के एक फैक्ट्री में कार्य करते हैं। सभी 26 मजदूर फैक्ट्री बन्द होने पर मालिक ने भगाया तो पेट भरने की समस्या सामने खड़ी हुई। मजबूरी में घर के लिए पैदल ही निकल पड़े।

जानकारी के अनुसार बंगलौर से रुदौली फैजाबाद के लिए लगभग 2800 किलोमीटर पैदल सफर पर निकले 26 मजदूरों का एक जत्था तड़के सुबह 4 बजे दिन में भूख-प्यास से तड़पता हुआ मुंगराबादशाहपुर पहुंचा जिसे अभी भी लगभग 250 किलोमीटर का सफर तय कर फैजाबाद के रुदौली तक जाना है। बताते हैं कि अपनी जन्मभूमि से हजारों किलोमीटर दूर अपना सहित परिवार के पेट की आग बुझाने बंगलौर शहर के एक कंपनी में काम करने वाले फैजाबाद के तहसील रुदौली के दो दर्जन मजदूर कोरोना वायरस की महामारी के चलते हुए लॉक डाउन के कारण न सिर्फ बेरोजगार हो गये, बल्कि भूखों मरने लगे।
लॉक डाउन के चलते जब कारखाना बन्द कर मालिकान फरार हो गया। 4 दिन तक तो कंपनी मालिक से पैसे लेने का इंतजार देखते रहे। जब मालिक नहीं मिला तो सभी दो दर्जन मजदूर लॉक डाउन के चौथे दिन यानी 29 मार्च को बंगलौर से अपने वतन के लिए पैदल रवाना हो गए। रास्ते में मजदूरों को जगह-जगह स्वयंसेवियों ने भोजन, पानी आदि दिया। सभी 26 मजदूर 4 बजे भोर में मुंगराबादशाहपुर पहुंचे जहां उनके पास न पैसे थे और न ही खाने की कोई व्यवस्था। इन मजदूरों में धर्मेंद्र, विपिन, सच्चे लाल, संतोष कुमार, राहुल, विनीत, शहंशाह, मनोहर, लक्ष्मण सहित 26 मजदूर हैं जिनकी उम्र 25 से 35 वर्ष के बीच की है। क्षेत्रीय लोगों द्वारा मजदूरों को जब बिस्कुट, ब्रेड, चाय मिला तो ऐसा लगा जैसे वह घर पहुंच गये हैं।
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Related Articles

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button