Jaunpur

Jaunpur : विश्व फार्मासिस्ट दिवस पर विश्वविद्यालय के छात्रों ने निकाली जागरूकता रैली | 

0 0
Read Time:2 Minute, 18 Second

जौनपुर। वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय जौनपुर के फार्मेसी संस्थान में सोमवार को विश्व फार्मासिस्ट दिवस मनाया गया। फार्मेसी के समस्त छात्र समाज में फार्मासिस्ट का महत्व को बताने के लिए रैली के माध्यम से देवकली एवं जासोपुर जाकर दवा के महत्व को बताया। दवाओं को कब, कैसे, किस समय खाना है। फार्मेसी छात्रों ने ग्रामीणवासियों को बताया क्योंकि एक फार्मासिस्ट की जिम्मेदारी को केवल फार्मासिस्ट ही समझता है।


विश्वविद्यालय के कुलपति ने छात्रों को संबोधित करते हुए कहा कि विश्व फार्मासिस्ट दिवस की अवधारणा FIP (इंटरनेशनल फार्मास्युटिकल फेडरेशन ) के 2009 अधिवेशन स्टाबुल तुर्की में की गयी और यह कहा गया कि फार्मासिस्ट मरीज एवं डॉक्टर के मध्य एक महत्वपूर्ण कड़ी है क्योंकि डॉक्टर सिर्फ दवा के द्वारा मरीज में जान देते है जबकि फार्मासिस्ट अपने ज्ञान एवं स्किल से दवाओं में जान डालते है। आज के परिदृश्य में फार्मासिस्ट की भूमिका और अधिक हो जाती है क्योंकि दवा सही मात्रा, सही समय एवम सही तरीके से लेने के उपरांत ही मर्ज को सही समय पर ठीक किया जा सकता है।

कार्यक्रम के आयोजक डॉ विनय कुमार वर्मा रहे और धन्यवाद ज्ञापन धर्मेन्द्र सिंह ने किया। इस कार्यक्रम में डॉ. राजीव कुमार, नृपेंद्र सिंह, विजय बहादुर मौर्य, डॉ. झांसी मिश्रा, शील निधि सिंह, राजन गुप्ता, आकांक्षा, श्वेता, अनुभव, प्रशांत, जैनेन्द्र के साथ तमाम छात्र मौजूद रहे।

खबरों व विज्ञापन के लिए संपर्क करें :-7800292090

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Related Articles

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Jaunpur

Jaunpur : विश्व फार्मासिस्ट दिवस पर विश्वविद्यालय के छात्रों ने निकाली जागरूकता रैली | 

0 0
Read Time:2 Minute, 18 Second

जौनपुर। वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय जौनपुर के फार्मेसी संस्थान में सोमवार को विश्व फार्मासिस्ट दिवस मनाया गया। फार्मेसी के समस्त छात्र समाज में फार्मासिस्ट का महत्व को बताने के लिए रैली के माध्यम से देवकली एवं जासोपुर जाकर दवा के महत्व को बताया। दवाओं को कब, कैसे, किस समय खाना है। फार्मेसी छात्रों ने ग्रामीणवासियों को बताया क्योंकि एक फार्मासिस्ट की जिम्मेदारी को केवल फार्मासिस्ट ही समझता है।


विश्वविद्यालय के कुलपति ने छात्रों को संबोधित करते हुए कहा कि विश्व फार्मासिस्ट दिवस की अवधारणा FIP (इंटरनेशनल फार्मास्युटिकल फेडरेशन ) के 2009 अधिवेशन स्टाबुल तुर्की में की गयी और यह कहा गया कि फार्मासिस्ट मरीज एवं डॉक्टर के मध्य एक महत्वपूर्ण कड़ी है क्योंकि डॉक्टर सिर्फ दवा के द्वारा मरीज में जान देते है जबकि फार्मासिस्ट अपने ज्ञान एवं स्किल से दवाओं में जान डालते है। आज के परिदृश्य में फार्मासिस्ट की भूमिका और अधिक हो जाती है क्योंकि दवा सही मात्रा, सही समय एवम सही तरीके से लेने के उपरांत ही मर्ज को सही समय पर ठीक किया जा सकता है।

कार्यक्रम के आयोजक डॉ विनय कुमार वर्मा रहे और धन्यवाद ज्ञापन धर्मेन्द्र सिंह ने किया। इस कार्यक्रम में डॉ. राजीव कुमार, नृपेंद्र सिंह, विजय बहादुर मौर्य, डॉ. झांसी मिश्रा, शील निधि सिंह, राजन गुप्ता, आकांक्षा, श्वेता, अनुभव, प्रशांत, जैनेन्द्र के साथ तमाम छात्र मौजूद रहे।

खबरों व विज्ञापन के लिए संपर्क करें :-7800292090

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Related Articles

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button