CoronaJaunpurUttar Pradesh

#Corona | कोरोना ने किसानों के इमदाद पर लगाया ब्रेक

0 0
Read Time:2 Minute, 29 Second

जौनपुर : ओलावृष्टि व तूफानी बारिश के कारण किसानों के रबी की फसलें बर्बाद हो गई हैं। सूबे के मुखिया ने दूसरे दिन ही आकर मुआवजा की शुरुआत की थी। आश्वासन दिया था कि एक सप्ताह के भीतर सभी के खाते में पैसा भेज दिया जाएगा। राजस्व कर्मी क्षति का आंकलन कर रहे थे। इसी दौरान महामारी का प्रकोप फैल गया और क्षतिपूर्ति देने के कार्य पर ब्रेक लग गया। मुआवजा देने के लिए 12 लाख रुपये की प्रथम किस्त दैवीय आपदा के खाते में आई है, लेकिन सत्यापन के कारण वितरण नहीं हो पा रहा है।

माह जुलाई में आयी तेज आंधी व पानी के कारण काफी संख्या में पशुओं की मौत के साथ ही कच्चे व पक्के मकानों को क्षति हुई थी। इसमें कई लोगों की मौत हुई थी तो आठ पशुओं की भी मृत्यु हो गयी थी। साथ ही दर्जनों की संख्या में पक्के व कच्चे मकानों की क्षति हुई थी। जिले में प्रकृति की मार झेल रहे चार हजार आपदा पीड़ित कई माह से मुआवजा पाने के लिए चक्कर काट रहे हैं। एक करोड़ 80 लाख नौ हजार दो सौ के बजट का इंतजार है। इसके लिए शासन स्तर पर चार से छह बार पत्राचार किया जा चुका है। आलम यह है कि शासन स्तर पर बजट न मिलने पर जिला प्रशासन के विशेष मद टीआर-27 से मरने वाले कुछ के परिजनों को चार-चार लाख रुपये दिया गया। पुराने का भुगतान हुआ नहीं, ऐसे में 13 मार्च 2020 को हुई अतिवृष्टि व ओलावृष्टि में फसलों के नुकसान का मुआवजा कैसे दिया जाए। हालांकि मुख्यमंत्री के हाथों से तीन मृतकों के वारिसों को चार-चार लाख रुपये की आर्थिक सहायता भी टीआर-27 से दिया गया। बाकी 51 किसानों को ओलावृष्टि के 10 लाख रुपये बजट से चेक दिया गया।

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

खबरों व विज्ञापन के लिए संपर्क करें :-7800292090

Related Articles

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button